शनिवार 12 अगस्त : देश दुनिया की 10 बड़ी खबरें

गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज (BRD Medical College) में छह दिनों में 60 से अधिक बच्चों की मौत पर सफाई देते हुए उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा है कि किसी भी बच्चे की मौत ऑक्सीजन की कमी के कारण नहीं हुई है।

गोरखपुर के बाबा राघवदास मेडिकल कॉलेज के प्रधानाचार्य डॉ. राजीव मिश्र को उत्तर प्रदेश सरकार ने निलंबित कर दिया है। दूसरी ओर डॉ. मिश्र ने कहा कि निलंबित होने के पहले ही बच्चों की मौत की जिम्मेदारी लेते हुए वे अपना इस्तीफा दे चुके हैं।
जनता दल (यूनाइटेड) ने शरद यादव (Sharad Yadav) को राज्य सभा में संसदीय दल के नेता के पद से हटा दिया है। यादव की जगह जदयू के संसदीय दल के नये नेता का पद आरसीपी सिंह को दिया गया है। इससे पहले यूपीए अध्यक्षा सोनिया गाँधी की बैठक में हिस्सा लेने के कारण अली अनवर को जदयू के संसदीय दल से निलंबित कर दिया गया था।
चंडीगढ़ छेड़छाड़ मामले में हरियाणा भाजपा अध्यक्ष सुभाष बराला के बेटे विकास बराला और उसके दोस्त आशीष को 25 अगस्त तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है।
उत्तर कोरिया (North Korea) की धमकियों के बीच अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Donald Trump) ने गुआम (Guam) के गर्वनर एडी काल्वो से कहा है कि आपकी जनता पूरी तरह सुरक्षित है।
बिहार में जनता दल (यू) के साथ मिल कर सरकार बनाने के बाद भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) को राजग में शामिल होने का न्यौता दिया है।
दो दिनों में गुजरात के विभिन्न शहरों में दस महिलाओं की चोटी काटे जाने की खबर के बाद राज्य सरकार ने मामले की जाँच सीआईडी क्राइम को सौंप दी है।
कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) ने रायचूर में पार्टी सम्मेलन में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कोरे आश्वासनों के कारण गरीबों का उत्थान नहीं हो रहा और न ही युवाओं को रोजगार मिल रहा है।
मिस्र में शुक्रवार की देर रात दो रेलगाड़ियों की टक्कर में 44 लोगों की मौत हो गयी, जबकि 180 लोग घायल हो गये।
रूस में चल रहे अंतरराष्ट्रीय सैन्य खेल 2017 में रेस के दौरान दोनों ही टैंक खराब हो जाने कारण भारत को अयोग्य घोषित करके बाहर कर दिया गया। (शेयर मंथन, 12 अगस्त 2017)

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : अगस्त 2016 अंक डाउनलोड करें

बातचीत

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

सूचकांक