कारबोरंडम यूनिवर्सल (Carborundum Universal) को 305.00 रुपये के लक्ष्य के साथ खरीदें : एसएमसी ग्लोबल (SMC Global)

एसएमसी ग्लोबल (SMC Global) ने कारबोरंडम यूनिवर्सल (Carborundum Universal) के शेयर के लिए 8-10 महीने की अवधि में 305.00 रुपये का लक्ष्य भाव दिया है।

यह लक्ष्य भाव कंपनी के मौजूदा शेयर भाव से 17% ज्यादा है। एसएमसी का अनुमान है कि वित्त वर्ष 2017-18 में प्रति शेयर आय (EPS) 12.72 रुपये होगी, जिस पर 24 के पीई अनुपात के मूल्यांकन पर इसने 305.00 रुपये का लक्ष्य भाव तय किया है।
एसएमसी ने मिट्टी के बरतन, इलेक्ट्रोमिनरल और अब्रैसिव (अपघर्षी वस्तु) का उत्पादन तथा बिक्री करने वाली कारबोरंडम यूनिवर्सल में निवेश के लिए तर्क दिया है कि मार्च 2016 की समाप्ति पर कंपनी की कुल बिक्री में से 53% भारत, 24% यूरोप और रूस, 10% एशिया प्रशांत, ऑस्ट्रेलिया और जापान तथा 6% पश्चिम एशिया और अफ्रीका में हुई। हाल ही में तमिलनाडु में शुरू किये गये अनुसंधान और विकास केंद्र से इसकी रिसर्च क्षमता में इजाफा हुआ जो कंपनी को समग्र गहन उत्पादन का विकल्प देती है, जिसमें बेहतर, लेपित और लचीली अब्रैसिव शामिल हैं। इसके लेपित अब्रैसिव संयंत्रों में अब पूरी क्षमता के साथ संचालन होता है और कंपनी प्रबंधन ने 2-3 वर्षों में माँग में बढ़ोतरी होने पर उत्पादन में भी वृद्धि का संकेत दिया है। कंपनी के तमिलनाडु स्थित रिसर्च केंद्र में सामग्री लक्षण, सूक्ष्म संरचनात्मक विश्लेषण, घटक विश्लेषण और अन्य महत्वपूर्ण कार्यों के लिए नये उपकरण मौजूद हैं।
आने वाली तिमाहियों में निवेश में सुधार होने की उम्मीद के अलावा जीएसटी बिल, बेहतर मानसून, सातवें वेतन आयोग भुगतान, फाइनेंस और उत्पादन की कम लागत के कारण माँग में वृद्धि होने से संगठित क्षेत्र को फायदा मिलेगा। ऐसे में कारबोरंडम जैसी औद्योगिक उपभोग्य की निर्माता कंपनियों को सबसे पहले लाभ होगा। एसएमसी ने अपनी रिपोर्ट में उल्लेख किया है कि विवेकी कार्यशील पूँजी प्रबंधन के कारण कंपनी के ऋण इक्विटी अनुपात में सुधार जारी है। इसके अलावा सितंबर 2016 में समाप्त तिमाही में सालाना आधार पर कंपनी का लाभ 17.5% की बढ़त के साथ 46.68 करोड़ रुपये और बिक्री 7.11% बढ़ कर 512.98 करोड़ रुपये रही। (शेयर मंथन, 04 फरवरी 2017)

Add comment

Security code Refresh

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : अगस्त 2016 अंक डाउनलोड करें

बातचीत

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

सूचकांक