बैंक ऑफ बड़ौदा (Bank of Baroda) ने नहीं किया एमसीएलआर (MCLR) में संशोधन

बैंक ऑफ बड़ौदा (Bank of Baroda) ने अपनी मौजूदा एमसीएलआर में कोई बदलाव न करने का फैसला लिया है।

बुधवार को भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर उर्जित पटेल की अगुवाई वाली मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने रेपो रेट को 6.50% पर ही बरकरार रखा, जिसके बाद बैंक ऑफ बड़ौदा ने भी एमसीएलआर में कोई इजाफा या कटौती नहीं की।
बैंक ऑफ बड़ौदा ने एक दिन के लिए 8.15%, एक महीने के लिए 8.20%, तीन महीनों के लिए 8.30%, 6 महीनों के लिए 8.50% और एक साल के लिए 8.65% एमसीएलआर ही बरकरार रखी है।
बता दें कि एमसीएलआर वह दर होती है, जिससे नीचे बैंक कुछ अपवाद स्थितियों को छोड़ कर ऋण नहीं दे सकता। एमसीएलआर की दर बढ़ने से आवास, ऑटो, व्यक्तिगत और बाकी सभी प्रकार के ऋण महंगे हो जाते हैं, क्योंकि ये सभी एमसीएलआर पर ही आधारित होते हैं।
इस बीच बीएसई में बैंक ऑफ बड़ौदा का शेयर पिछले बंद स्तर के मुकाबले आज सपाट 107.50 रुपये पर खुल कर दबाव में दिख रहा है। 9.17 बजे यह 0.80 रुपये या 0.74% की गिरावट के साथ 106.70 रुपये पर चल रहा है। (शेयर मंथन, 06 दिसंबर 2018)

Add comment

Security code Refresh

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : नवंबर 2017 अंक डाउनलोड करें

वीडियो सूची

शेयर मंथन पर तलाश करें।

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"