कच्चे तेल की कीमतों में निचले स्तर पर खरीदारी की संभावना - एसएमसी

कच्चे तेल निचले स्तर पर खरीदारी होने की संभावना है और कीमतों को 5,140 रुपये के स्तर पर रुकावट के साथ 5,030 रुपये के स्तर पर सहारा रह सकता है।

यूरोप में ईंधन की मजबूत माँग के संकेतों के कारण आज तेल की कीमतों में लगातार दूसरे दिन बढ़ोतरी हुई, जबकि ईरानी तेल आपूर्ति की निकट अवधि में वापस की संभावना कम हो गयी क्योंकि अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि तेहरान के खिलाफ प्रतिबंध हटा दिया गया हैं और अधिक लोगों को टीक लगाया जा रहा है। अमेरिकी ऊर्जा सूचना प्रशासन ने इस संयुक्त राज्य अमेरिका में ईंधन की खपत में वृद्धि का अनुमान लगाया है, जो दुनिया का सबसे बड़ा तेल उपयोगकर्ता है और 1.49 मिलियन बैरल प्रति दिन खपत होने का अनुमान है जो पिछले पूर्वानुमान 1.39 मिलियन बैरल प्रति दिन से अधिक है। एक अन्य सकारात्मक संकेत के तहत, अमेरिकी पेट्रोलियम संस्था के अनुसार 4 जून को समाप्त में कच्चे तेल भंडार में 2.1 मिलियन बैरल की गिरावट हुई है। अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने मंगलवार को कहा कि भले ही ईरान और संयुक्त राज्य अमेरिका परमाणु समझौते के अनुपालन को लेकर अग्रसर हैं लेकिन तेहरान पर सैकड़ों अमेरिकी प्रतिबंध लागू रहेंगे। पेट्रोलियम निर्यातक देशों के संगठन और सहयोगियों द्वारा आपूर्ति पर प्रतिबंध से भी कीमतों को मदद मिली है। लेकिन भारत जैसे प्रमुख तेल आयातक संक्रमण की लहरों से गुजर रहे हैं, जिससे इस साल की दूसरी छमाही में वैश्विक माँग में अपेक्षित बढ़ोतरी को लेकर अभी भी जोखिम बना हुआ है।
नेचुरल गैस की कीमतों में तेजी के रुझान के साथ कारोबार रहने की संभावना है लेकिन कीमतों में गिरावट से इंकार नहीं किया जा सकता है। कीमतों को 226 रुपये के स्तर पर सहारा और 231 रुपये स्तर पर बाधा रह सकती है। (शेयर मंथन, 09 जून 2021)

 

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"