एसजेवीएन ने 90 मेगा वाट के फ्लोटिंग सोलर प्रोजेक्ट का ऑर्डर जीता

एसजेवीएन यानी सतलज जल विद्युत निगम लिमिटेड (Satluj Jal Vidyut Nigam) को 90 मेगा वाट के तैरते हुए सोलर प्रोजेक्ट के लिए ऑर्डर मिला है। कंपनी को 585 करोड़ रुपए का यह ऑर्डर मध्य प्रदेश के ओंकारेश्वर से मिला है। एसजेवीएन के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नंद लाल शर्मा ने कहा कि इस प्रोजेक्ट से मिलने वाली एनर्जी 3.26 प्रति इकाई की दर से उपलब्ध होगा। यह प्रोजेक्ट बीओटी यानी बिल्ड ओन और ट्रांसफर के आधार पर विकसित किया जाएगा। कंपनी ने यह ऑर्डर रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर लिमिटेड की ओर से मंगाए गए टेंडर के जरिए हासिल किया है।

एसजेवीएन देश का सबसे बड़ा तैरता हुआ सोलर पार्क मध्य प्रदेश के खंडवा जिले के ओंकारेश्वर में बनाएगी।
इस प्रोजेक्ट को विकसित करने पर 585 करोड़ रुपए का खर्च आएगा। इस प्रोजेक्ट के पूरा होने पर पहले साल में 21.9 करोड़ यूनिट बिजली पैदा होगी, जबकि 25 साल की अवधि में इस प्रोजेक्ट से 515.8 करोड़ यूनिट बिजली पैदा होगी।
बिजली खरीद समझौते के लिए रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर लिमिटेड (REWA Ultra Mega Solar Ltd) यानी RUMSLऔर Satluj Jal Vidyut Nigam यानी एसजेवीएन के बीच हस्ताक्षर किया गया है। बिजली खरीद समझौते के पूरा होने के 15 महीने के भीतर इस प्रोजेक्ट को पूरा करना है।
कंपनी ने यह ऑर्डर टैरिफ आधारित कंपीटिटीव बिडिंग प्रक्रिया के तहत हासिल किया है। इस प्रोजेक्ट के पूरा होने से 2.52 लाख टन कार्बन उत्सर्जन में कमी आएगी। एसजेवीएन देश के 2070 तक नेट जीरो कार्बन उत्सर्जन का लक्ष्य हासिल करने के लिए तेजी से प्रयास कर रही है।
कंपनी के पास 31000 मेगा वाट का पोर्टफोलियो है। कंपनी के पास करीब 3.3 गीगा वाट के 19 प्रोजेक्ट्स हैं जिस पर अलग-अलग चरणों में काम चल रहा है। (शेयर मंथन 07 मई 2022)

Add comment

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"