ओशन स्पार्कल में हिस्सा खरीदेगी अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन्स

अडानी हार्बर सर्विसेज ने मरीन सर्विस देने वाली कंपनी ओशन स्पार्कल लिमिटेड (ओएसएल) के अधिग्रहण के लिए करार किया है। आपको बता दें कि ओशन स्पार्कल लिमिटेड थर्ड पार्टी मरीन सर्विसेज प्रोवाइड करने वाली कंपनी है। अडानी हार्बर सर्विसेज अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन्स (एपीएसईजेड) लिमिटेड की सब्सिडियरी कंपनी है।

अधिग्रहण पर बयान देते हुए एपीएसईजेड के सीईओ यानी मुख्य कार्यकारी अधिकारी और पूर्णकालिक निदेशक करण अडाणी ने कहा कि यह डील कंपनी के कारोबार को आगे बढ़ाने में मददगार साबित होगी। करण अडाणी के मुताबिक ओएसएल और अडानी हार्बर सर्विसेज लिमिटेड (टीएएचएसएल) के बीच बेहतर तालमेल से कंसोलिडिटेड कारोबार अगले 5 वर्षों में दोगुना होने की उम्मीद है। इसके अलावा मार्जिन में सुधार का सीधा फायदा अडानी पोर्ट्स के शेयरधारकों को मिलेगा। इस अधिग्रहण से कंपनी की न केवल भारत के मरीन सर्विसेज मार्कट में हिस्सेदारी बढ़ेगी बल्कि दूसरे देशों में भी कारोबार करने के लिए प्लैटफॉर्म तैयार करने में मददगार साबित होगा। ओशन स्पार्कल लिमिटेड के पास खुद की 94 वेसल है जबकि 13 थर्ड पार्टी ओन्ड वेसल है। इस डील के बाद ओशन स्पार्कल लिमिटेड का एंटरप्राइज वैल्यू 1700 करोड़ रुपए है जबकि कंपनी के पास 300 करोड़ रुपए की नकदी है। कंपनी का गठन 1995 में मरीन टेक्नोक्रैट के सदस्यों ने किया था। इस कंपनी की उपस्थिति भारत के सभी बड़े बंदरगाह, 15 माइनर बंदरगाह और 3 एलएनजी टर्मिनल्स पर है। अडानी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक जोन्स अदानी ग्रुप की फ्लैगशिप ट्रांसपोर्टेशन सब्सिडियरी है जो भारत का सबसे बड़ा निजी पोर्ट्स और लॉजिस्टिक्स कंपनी है। (शेयर मंथन 22 अप्रैल 2022)

Add comment

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"