डीएचएफएल (DHFL) को 2,223 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा

कर्ज संकट से जूझ रही दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉरपोरेशन (Dewan Housing Finance Corporation) को कारोबारी साल 2018-19 की चौथी तिमाही में भारी घाटा सहना पड़ा है।

हाउसिंग फाइनेंस क्षेत्र की इस कंपनी ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) को सूचित किया है कि जनवरी-मार्च 2019 तिमाही में इसका स्टैंडअलोन शुद्ध घाटा 2,223 करोड़ रुपये रहा है। इससे पहले जनवरी-मार्च 2018 तिमाही में इसने 134 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ अर्जित किया था।
कारोबारी साल 2018-19 की चौथी तिमाही में कंपनी की कुल आय इससे पिछले साल की समान अवधि के कुल आय 2,846 करोड़ रुपये के मुकाबले बढ़ कर 3,057 करोड़ रुपये हो गयी। लेकिन इसी दौरान कंपनी का ब्याज पर होने वाला व्यय (interest expense) भी 2,011 करोड़ रुपये से बढ़ कर 2,349 करोड़ रुपये हो गया। जनवरी-मार्च 2019 में कंपनी ने अतिरिक्त प्रावधान (provisioning) और शुद्ध घाटा (Net loss) मद में 3,280 करोड़ रुपये दिखाये हैं, जो जनवरी-मार्च 2018 तिमाही में केवल 383 करोड़ रुपये रहा था। बीते साल की चौथी तिमाही में कंपनी ने 372 करोड़ रुपये का कामकाजी मुनाफा (Operating profit) दर्ज किया है, इससे पिछले साल की समान अवधि में यह 567 करोड़ रुपये रहा था। कारोबारी साल 2018-19 की चौथी तिमाही में कंपनी के सकल डूबे कर्ज (Gross NPA) बढ़ कर 2.74% हो गये। इससे पिछले साल की समान अवधि में कंपनी के सकल डूबे कर्ज 0.96% थे।
यदि पूरे कारोबारी साल 2018-19 की बात करें तो डीएचएफएल को 1,036 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ है, जबकि कारोबारी साल 2017-18 में इसने 1,240 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया था। इस प्रदर्शन पर कंपनी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक कपिल वाधवान ने कहा है, पिछले नौ महीनों से हमने अपना पूरा ध्यान केंद्रित करते हुए अपने वित्तीय उत्तरदायित्वों को पूरा किया है और जल्द से जल्द कारोबार को सामान्य स्थिति में वापस लाने का प्रयास कर रहे हैं। दरअसल पूँजी उठाने की क्षमता प्रभावित होने की वजह से सितंबर 2018 से कर्ज वितरण और लोन ग्रोथ में भारी गिरावट के कारण कंपनी की वित्तीय स्थिति पर काफी बुरा असर पड़ा है। (शेयर मंथन, 14 जुलाई 2019)

Add comment

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : अप्रैल 2019 अंक डाउनलोड करें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"