मुनाफे में 63% वृद्धि के बावजूद दबाव में बजाज फाइनेंस (Bajaj Finance) का शेयर

गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी बजाज फाइनेंस (Bajaj Finance) के शेयर में करीब 1.5% की कमजोरी देखने को मिल रही है।

साल दर साल आधार पर वित्त वर्ष 2019-20 की दूसरी तिमाही में बजाज फाइनेंस के मुनाफे में 63% का इजाफा हुआ। कारोबारी साल 2018-19 की जुलाई-सितंबर तिमाही में 923 करोड़ रुपये के मुकाबले कंपनी ने 1,506 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया।
इस बीच बजाज फाइनेंस की शुद्ध ब्याज आमदनी 3,795 करोड़ रुपये से 44% बढ़ कर 5,462 करोड़ रुपये और कुल शुल्क तथा अन्य आमदनी 478 करोड़ रुपये से 80% बढ़ कर 860 करोड़ रुपये की रही। इसके अलावा कंपनी की एयूएम (एसेट अंडर मैनेजमेंट या प्रबंधन अधीन संपदा) सितंबर 2018 को 94,478 करोड़ रुपये से सितंबर 2019 तक 38% अधिक 1,35,533 करोड़ रुपये की हो गयी।
तिमाही दर तिमाही आधार पर बजाज फाइनेंस का सकल एनपीए अनुपात 1.60% से बढ़ कर 1.61% और शुद्ध एनपीए अनुपात 0.64% के मुकाबले 0.65% रहा। वहीं कंपनी का पूँजी पर्याप्तता अनुपात 19.68% रहा।
प्रमुख ब्रोकिंग फर्म आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज ने बजाज फाइनेंस के नतीजों को अधिकतर अनुमान के करीब मगर मजबूत कहा है।
दूसरी तरफ बीएसई में बजाज फाइनेंस का शेयर 4,138.05 रुपये के पिछले बंद भाव के मुकाबले आज हरे निशान में 4,157.00 रुपये पर खुला, मगर शुरुआती घंटे में ही कमजोर स्थिति में पहुँच गया। करीब 1.30 बजे वापसी करते हुए शेयर ने 4,219.50 रुपये का ऊपरी स्तर छुआ, जो इसके पिछले 52 हफ्तों का शिखर है।
करीब 2 बजे यह 8.30 रुपये या 0.20% की गिरावट के साथ 4,129.75 रुपये पर चल रहा है। इस भाव पर कंपनी की बाजार पूँजी 2,39,277.87 करोड़ रुपये है। वहीं इसके पिछले 52 हफ्तों का निचला स्तर 2,000.80 रुपये रहा है। (शेयर मंथन, 22 अक्टूबर 2019)

Add comment

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : अप्रैल 2019 अंक डाउनलोड करें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"