क्लीन एनर्जी के लिए नेक्सट्रा का ब्लूम एनर्जी के साथ करार

भारती एयरटेल की सब्सिडियरी कंपनी Nxtra डाटा ने फ्यूल सेल तकनीक के लिए करार किया है। एयरटेल की यह सब्सिडियरी भारत की पहली डाटा सेंटर कंपनी होगी जो भारत में फ्यूल सेल तकनीक लगाने जा रही है।

 नेक्सट्रा फ्यूल सेल तकनीक अपनाने वाली पहली कंपनी होगी। इस तकनीक का मकसद क्लीन एनर्जी मुहैया कराना है। कंपनी यह इकाई कर्नाटक राज्य में लगाएगी। हाइड्रोजन रेडी फ्यूल सेल इकाई क्लीन एनर्जी की आपू्र्ति करेगी। इससे कार्बन उत्सर्जन में बड़े स्तर पर कमी आएगी। फ्यूल सेल तकनीक के इस्तेमाल से लागत में कमी के अलावा मुनाफे में भी बढ़ोतरी देखने को मिलेगी। नेक्सट्रा की नॉन-कंबस्टेड नेचुरल गैस से इकाई को शुरू करने की योजना है। इसके बाद बिना किसी खास निवेश के भविष्य में 50 फीसदी हाइड्रोजन का इस्तेमाल करेगी। नेचुरल गैस से लैस सेल का इस्तेमाल प्राइमरी जेनरेशन के लिए किया जाएगा। इसे इलेक्ट्रिकल ग्रिड और जेनरेटर्स से बैंकअप साधन के तौर पर जोड़ा जाएगा। इस करार के मौके पर नेक्सट्रा के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर राजेश तापड़िया ने कहा कि डाटा सेंटर इंडस्ट्री के सस्टेनेबिलिटी के लिए कंपनी नए बेंचमार्क तय करने के लिए प्रतिबद्ध है। साथ हीं कंपनी एशिया पैसेफिक क्षेत्र में डाटा सेंटर के ठिकाने के तौर पर उभर रहे भारत जैसे देश में निर्णायक भूमिका निभाने को तैयार है। कंपनी की 2031 तक नेट जीरो का लक्ष्य हासिल करने की योजना है। ब्लूम एनर्जी (Bloom Energy) के साथ यह करार हमारे भविष्य की एनर्जी जरुरतों को पूरा करने की रणनीति का एक हिस्सा है। कंपनी का फोकस डाटा सेंटर को ज्यादा से ज्यादा क्लीन एनर्जी मुहैया कराना है। ब्लूम एनर्जी की तकनीक भारत को उसके नेट कार्बन जीरो के लक्ष्य को हासिल करने में मददगार साबित होगी। आपको बता दें कि नेक्सट्रा के पास भारत में डाटा सेंटर का सबसे बड़ा नेटवर्क है। देशभर में नेक्सट्रा के 12 बड़े और 120 एज डाटा सेंटर मौजूद हैं। कंपनी की अगले 4 साल में क्षमता तीन गुना बढ़ाने पर 5000 करोड़ रुपये निवेश की योजना है। कंपनी की क्षमता बढ़ाकर 400 मेगा वाट तक ले जाने की है। कंपनी पहले ही निवेश के साथ 8 संगठनों के साथ करार कर चुकी है। कंपनी ने यह करार देशभर में रिन्युएबल एनर्जी पावर इकाई लगाने के लिए किया है। कंपनी की 1.8 लाख मेगा वाट आवर रिन्युएबल एनर्जी पैदा करने की योजना है। कंपनी की अगले 12 महीने में ऊर्जा जरुरतों में से 50 फीसदी रिन्युएबल एनर्जी से पूरा करने की है।

 (शेयर मंथन 12 सितंबर, 2022)

Add comment

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"