कच्चे तेल की कीमतों में निचले स्तर पर कारोबार करने की संभावना - एसएमसी साप्ताहिक रिपोर्ट

अमेरिका में कच्चे तेल के भंडार में आश्चर्यजनक बढ़ोतरी और विश्व में कच्चे तेल के तीसरे बड़े उपभोक्ता भारत में कोविड-19 के मामलों में उछाल के बाद माँग में कमी आने की चिंता से तेल की कीमतें एक हफ्ते में सबसे कम हो गयी हैं।

भारत में बढ़ते वायरस के मामले और इस तरह प्रसार को सीमित करने के लिए प्रतिबंध की माँग के कारण तेल की माँग कम हो सकती है। भारत रोगियों के इलाज के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति संकट का सामना कर रहा है। महामारी की एक बड़ी दूसरी लहर के कारण देश के बड़े हिस्से अब बंद हो गये हैं। आगे तेल आपूर्ति की संभावना को बढ़ाते हुये, ईरान और विश्व शक्तियों ने 2015 के परमाणु समझौते को बचाने के लिए बातचीत को आगे बढ़ाया है, जो सफल होने पर प्रतिबंधें को हटा सकते हैं और अधिक ईरानी तेल की बाजार में वापसी हो सकती हैं जिससे आगामी दिनों में तेल आपूर्ति बढ़ने की संभावना है। रूसी उप प्रधानमंत्री अलेक्जेंडर नोवाक और ओपेक प्लस के सूत्रों ने कहा है कि ओपेक प्लस इस सप्ताह बड़े पैमाने पर तकनीकी बैठक कर रहे हैं जहाँ नीति में बड़े बदलाव की संभावना नहीं है। नोवाक ने कहा है कि समूह उत्पादन की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए अपने फैसले के बाद उत्पादन की योजना की पुष्टि कर सकता है। इस सप्ताह कच्चे तेल की कीमतों में भारी अस्थिरता रह सकती है और कीमतें 4,350-4,940 रुपये के दायरे में कारोबार कर सकती है, जहाँ अड़चन के पास बिकवाली और सहारा के पास खरीदारी रणनीति होगी।
नेचुरल गैस वायदा की कीमतें दबाव में है और 197-210 रुपये के दायरे में कारोबार कर रही है क्योंकि मध्यावधि मौसम पूर्वानुमान में मामूली बदलाव के कारण कुछ व्यापारियों ने लांग पोजिशन में कटौती की है। नवीनतम मॉडल नेटगैसवर्थ के अनुसार, देश भर में सर्द मौसम प्रणालियों की एक श्रृंखला के कारण सप्ताहांत तक सामान्य से अधिक माँग हो सकती है। इस सप्ताह में, उम्मीद है कि नेचुरल गैस की कीमतें तेजी के रुझान के साथ कारोबार कर सकती हैं, जहाँ कीमतों को 195 रुपये के पास सहारा और 218 रुपये के पास रुकावट देखा जा सकता है। (शेयर मंथन, 26 अप्रैल 2021)

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"