कच्चे तेल की कीमतों में एक साल से अधिक समय के उच्च स्तर पर रहने की संभावना - एसएमसी साप्ताहिक रिपोर्ट

ईरान और संयुक्त राज्य अमेरिका के बीच परमाणु वार्ता की धीमी गति के साथ-साथ ओपेक और सहयोगियों द्वारा आपूर्ति को धीरे-धीरे बहाल करने की योजना पर टिके रहने के फैसले से कच्चे तेल की कीमतें एक साल से अधिक समय के उच्चतम स्तर पर पहुँच गयी है।

तेल बाजार ने ओपेक प्लस की अपनी मौजूदा उत्पादन योजना को जारी रखने के निर्णय और वैश्विक माँग की सकारात्मक संकेतों का स्वागत किया। माँग में रिकवरी की उम्मीद करते हुये, ओपेक प्लस ने 1 जून से जुलाई तक आपूर्ति प्रतिबंधें को धीरे-धीरे कम करने की अपनी योजना को बनाये रखने पर सहमति व्यक्त की। ओपेक प्लस की बैठक में निर्णय लेने में अब तक के इतिहास में सबसे कम 20 मिनट का समय लगा, जो सदस्यों के बीच एकता और बाजार की रिकवरी में उनके विश्वास को दर्शाता है। सऊदी ऊर्जा मंत्री प्रिंस अब्दुलअजीज बिन सलमान ने कहा कि संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन में माँग में ठोस सुधार और कोविड-19 वैक्सीन रोलआउट की गति से वैश्विक तेल बाजार में और पुनर्संतुलन स्थापित हो सकता है। इस सप्ताह कच्चे तेल की कीमतों में भारी उतार-चढ़ाव देखने को मिल सकता है और कीमतें तेजी के रुझान के साथ 4,780-5,240 रुपये के दायरे में कारोबार करना जारी रख सकती है। एमसीएक्स पर नैचुरल गैस की कीमतें 230 रुपये के स्तर को तोड़ने की कोशिश कर रही हैं लेकिन अभी तक यह इसे तोड़ने में नाकाम रही है।

कच्चे तेल की कीमतों में तेज गिरावट, अधिक गर्मी के दौरान कूलिंग के लिए माँग में तेजी के स्पष्ट संकेतों की कमी के कारण गैस की कीमतों में तीन महीने के उच्च स्तर से तेजी से गिरावट हुई। बाजार स्पष्ट रूप से उच्च स्तर पर जाने के लिए कोशिश कर रहा है, और बाजार इस तथ्य पर ध्यान देना शुरू कर देगा कि माँग कम हो रही है। इस सप्ताह, हम उम्मीद कर सकते हैं कि कीमतें एक सीमित दायरे में कारोबार कर सकती हैं जहाँ 210 रुपये के करीब सहारा और 240 रुपये के करीब अड़चन रह सकता है। (शेयर मंथन, 07 जून 2021)

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"