सब्सिडियरी का इवाइव बायोटेक के साथ लाइसेंसिंग करार

 दवा कंपनी अरबिंदो फार्मा ने एक्सचेंज को लाइसेंसिंग करार के बार में जानकारी दी है। यह लाइसेंसिंग करार कंपनी की सब्सिडियरी ने किया है। सब्सिडियरी ने Evive Biotech यानी इवाइव बायोटेक के साथ लाइसेंसिंग करार किया है।

 इस करार के तहत अमेरिका में Ryzneuta दवा की बिक्री कर पाएगी। इस दवा के अंतिम चरण की समीक्षा अमेरिकी ड्रग रेगुलेटर यानी यूएसएफडीए (USFDA) की ओर से की जा रही है। इस दवा का इस्तेमाल केमोथेरैपी (CIN:chemotherapy-induced neutropenia) के कारण हुए न्यूट्रोपीनिया के इलाज में किया जाता है। यही नहीं अमेरिकी ड्रग रेगुलेटर के अलावा Ryzneuta दवा की अर्जी की समीक्षा यूरोपीयन और चीन के ड्रग रेगुलेटर की ओर से भी की जा रही है। आपको बता दें कि न्यूट्रोपीनिया केमोथेरैपी के इलाज का साइड इफेक्ट है। यह स्थिति शरीर में न्यूट्रोफिल का स्तर कम होने पर देखा जाता है। आपको बता दें कि न्यूट्रोफिल एक व्हाइट ब्लड शेल यानी श्वेत रक्त कोशिकाएं होती हैं जो इंफेक्शन होने पर लड़ती हैं। इवाइव बायोटेक के साथ अरबिंदो फार्मा की अमेरिकी सब्सिडियरी एक्रोटेक बायोफार्मा ने लाइसेंसिंग करार का ऐलान किया है। लाइसेंसिंग करार के तहत इवाइव के ऊपर मौजूदा विकास, दवा का उत्पादन, रजिस्ट्रेशन और दवा की आपूर्ति की जिम्मेदारी होगी। वहीं एक्रोटेक के पास अमेरिका में दवा की बिक्री और वितरण की जिम्मेदारी होगी। इस दवा की बिक्री के जरिए एक्रोटेक को कैंसर के रोगियों तक कारोबार विस्तार का मौका मिलेगा।

(शेयर मंथन, 24 नवंबर 2022)

Add comment

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"