वैश्विक इक्विटी बाजारों में तेजी के बीच सुरक्षित निवेश के माँग बढ़ने से सर्राफा को मदद - एसएमसी मासिक रिपोर्ट

अगस्त महीने में, सोने ने ज्यादातर नरमी के रुझान के साथ सीमित कारोबार किया क्योंकि फेड के रुख में कोई बदलाव नहीं होने की आशंका से वैश्विक इक्विटी बाजारों में तेजी दर्ज किये जाने और डॉलर के मजबूत होने से कीमतों पर दबाव डाला, लेकिन महीने के अंत में कोमेक्स में कीमतें सपाट बंद हुई क्योंकि अमेरिकी फेडरल रिजर्व के प्रमुख जेरोम पॉवेल द्वारा महामारी-युग के प्रोत्साहनों में जल्द कटौती की आशंका से दूरी बनाये जाने के कारण सर्राफा की सुरक्षित निवेश के लिए माँग बढ़ने से कीमतों को थोड़ी मदद मिली।

एमसीएक्स में सोने की कीमतों में लगभग 1.5% की गिरावट हुई क्योंकि मजबूत घरेलू करेंसी ने कीमतों को रिकवरी करने का मौका नहीं दिया। चांदी की कीमतों में मासिक आधार पर 6% से अधिक की गिरावट हुई क्योंकि बेस मेटल में कमजोरी से भी चांदी की कीमतों पर दबाव पड़ा। ईटीएफ में बिकवाली और सीएफटीसी पोजीशन में कमी से भी कुल मिलाकर बाजार के सेंटीमेंट पर असर पड़ा। सोने की कीमतें नरमी के रुख के साथ एक दायरे में कारोबार कर सकती हैं। अमेरिकी फेडरल रिजर्व के प्रमुख जेरोम पॉवेल ने जैक्सन होल संगोष्ठी में आर्थिक समर्थन को कम करने की समयसीमा पर कोई स्पष्ट संकेत नहीं दिया। मुद्रास्फीति और आर्थिक सुधार बाजार के लिए प्रमुख कारक होंगे। बाजार निरंतर आर्थिक सुधार और मुद्रास्फीति में एक अस्थायी उछाल के बारे में बहुत आश्वस्त हैं, जिससे सोने और चांदी की कीमतें कुछ हद तक कम हो गयी हैं। इस बीच, यूरोपीय शेयर बाजार में लगातार सातवें महीने बढ़ोतरी हुई है, क्योंकि अधिक नीति समर्थन की उम्मीद ने कोविड-19 मामलों में वृद्धि से आर्थिक जोखिमों को कम कर दिया। यूरोपीय सेंट्रल बैंक (ईसीबी) के कुछ अधिकारी भी इस बात पर विचार करना शुरू कर रहे हैं कि संपत्ति की कमी शुरू करना है या नहीं क्योंकि यूरोजोन का उपभोत्तफा मूल्य सूचकांक (सीपीआई) के साथ अगस्त में साल-दर-साल उम्मीद से अधिक 3% की वृद्धि दर्ज की है। लेकिन फेड द्वारा रिवर्स पुनर्खरीद 1.19 ट्रिलियन डॉलर की एक नयी ऊँचाई पर पहुँच गया, जिससे पता चलता है कि मुद्रा बाजार में अभी भी धन की अधिक आपूर्ति है। सितम्बर में, बुलियन काउंटर के नरमी के रुझान के साथ सीमित दायरे में कारोबार करने की संभावना है, जहाँ हम निचले स्तर से कुछ शॉर्ट कवरिंग भी देख सकते हैं। चांदी की कीमतों के बहुत अस्थिर रहने की उम्मीद है और उच्च स्तर से भी बिकवाली की उम्मीद है।
मौद्रिक नीति पर फेड का रुख: फेडरल रिजर्व के अध्यक्ष जेरोम पॉवेल ने कहा है कि केंद्रीय बैंक इस साल अपनी मासिक बांड खरीद को कम करना शुरू कर सकता है, फिर भी ब्याज दरों में वृद्धि शुरू करने की जल्दी में नहीं होगा। फेड प्रमुख में फेड की वार्षिक जैक्सन होल संगोष्ठी में कहा है कि अर्थव्यवस्था अब फेड के मुद्रास्फीति उद्देश्य की ओर ‘काफी आगे तक प्रगति’ कर चुकी है, जिसके बारे में पॉवेल और उनके सहयोगियों ने कहा है कि बांड खरीद को कम करने के लिए एक पूर्व शर्त होगी, जबकि श्रम बाजार ने भी ‘स्पष्ट प्रगति’ की है। अमेरिका में कर्ज बढ़ रहा है और अमेरिकी यील्ड में अस्थिरता बनी हुई है और डॉलर का उच्च स्तर बना हुआ है जो यह दर्शाता है कि निकट भविष्य में एक बार फिर से अधिक अस्थिरता के लिए तैयार रहना चाहिये।
वैश्विक आर्थिक सुधार को लेकर चुनौतियां बरकरारः वैश्विक अर्थव्यवस्था अपने महामारी से पहले की तेजी की पटरी पर लौटने के लिए प्रगति कर रही है, लेकिन आपूर्ति की चुनौतियाँ और तेज मुद्रास्फीति अभी भी रिकवरी की माँग में बाधएं बनी हुई है। अगस्त की शुरुआत में उपभोक्ता सेंटीमेंट लगभग एक दशक में सबसे निचले स्तर पर आ गयी क्योंकि अमेरिकावासी अर्थव्यवस्था की संभावनाओं, मुद्रास्फीति और कोरोना वायरस मामलों में हालिया उछाल को लेकर अधिक चिंतित थे। उपभोक्ता विश्वास में कमी के कारण आने वाले महीनों में आर्थिक विकास को लेकर मंदी का जोखिम बढ़ गया है क्योंकि उपभोक्ता खर्च पर लगाम लगा सकते हैं। अगस्त में चीन के व्यवसाय और व्यापक अर्थव्यवस्था दबाव में आ गयी क्योंकि कारखानों की गतिविधियाँ धीमी गति से बढ़ी है, जबकि सेवा क्षेत्र में भी गिरावट हुई, जिससे विकास को बढ़ावा देने के
लिए अधिक निकट अवधि के नीति समर्थन की संभावना बढ़ गयी। अप्रैल-जून तिमाही में भारतीय अर्थव्यवस्था में रिकॉर्ड 20.1 प्रतिशत की वृद्धि हुई, पिछले साल के बहुत कमजोर आधार और कोविड-19 मामलों की विनाशकारी दूसरी लहर के बावजूद मैनुफैक्चरिंग और सेवा क्षेत्रों में तेज रिकवरी से मदद मिली।
बढ़ती मुद्रास्फीति एक प्रमुख चिंता का विषय हैः वैश्विक स्तर पर मुद्रास्फीति में बढ़ोतरी हुई है। इस साल अमेरिका में भारी प्रोत्साहन खर्च के कारण मुद्रास्फीति की आशंका बढ़ गयी है, जहाँ जुलाई में उपभोक्ता कीमतों में तेजी से वृद्धि हुई है। फेड अधिकारी दोहराते रहे हैं कि मुद्रास्फीति केवल अस्थायी अवस्था है और अमेरिकी आर्थिक विकास के मार्ग में कोई बाध नहीं होगी। लेकिन हाल ही में जैक्सन होल संगोष्ठी में फेड गवर्नर पॉवेल ने बढ़ती मुद्रास्फीति के बारे में कुछ चिंतायें प्रकट की।
ईटीएफ होल्डिंग में गिरावट: ईटीएफ होल्डिंग सीधे कीमतों को प्रभावित नहीं करती हैं, लेकिन यह निश्चित रूप से बाजार में समग्र सेंटीमेंट को प्रभावित करती है। 2020 में, पिछले वर्ष दोनों धतुओं के लिए ईटीएफ प्रवाह काफी महत्वपूर्ण था, लेकिन कीमतों में बिकवाली के कारण ईटीएफ होल्डिंग में भी गिरावट हुई। सोने के एसपीडीआर होल्डिंग में इस वर्ष अभी तक लगभग 13% की गिरावट हुई है, जबकि चांदी के ईटीएफ आईशेयर होल्डिंग्स में 9% की गिरावट हुई है। सितम्बर 2021 में, सोने की कीमतें 46,000-48,500 रुपये और चांदी की कीमतें 60,000-66,000 रुपये के दायरे में कारोबार कर सकती है। जबकि कोमेक्स में सोने की कीमतें 1,780-1,850 डॉलर और चांदी की कीमतें 23.00-25.50 डॉलर के दायरे में कारोबार कर सकती है।
चीन में सोने की माँग: उपभोक्ताओं उपभोक्ताओं के बीच सोने के आभूषणों आभूषणों की माँग में उल्लेखनीय उल्लेखनीय उछाल के कारण चीन में सोने की माँग में जोरदार बढ़ोतरी हुई है। वर्ष की पहली छमाही में सोने के आभूषणों जैसे कि सोने के कंगन, पेंडेंट, झुमके और आधुनिक और साथ ही पारंपरिक डिजाइनों से बने हार की बिक्री में वृद्धि देखी गयी। उद्योग जगत के लोगों के मुताबिक चीन में हेरिटेज सोने के आभूषणों की माँग में भारी इजाफा हुआ है। चाउ ताई फूक ज्वैलरी ग्रुप लिमिटेड और लुक फूक होल्डिंग्स इंटरनेशनल लिमिटेड की पसंद ने अपने हेरिटेज सोने के आभूषणों की माँग में वृद्धि हुई है।
एनॉलसिसः सोना प्रति चांदी का अनुपात, जो सोने को खरीदने के लिए आवश्यक चांदी के औंस की संख्या को मापता है, अगस्त महीने में 71.0 से बढ़कर 75.5 हो गया है। सितम्बर में सोने और चांदी का अनुपात 71-77 के दायरे में रह सकता है। (शेयर मंथन, 13 सितम्बर 2021)

Add comment

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"