आठ महीनों के उच्चतम स्तर पर पहुँची थोक महँगाई दर (WPI Inflation)

महँगाई दर में बढ़ोतरी का सिलसिला अक्टूबर महीने में भी जारी रहा।

मुख्यतः विनिर्मित उत्पादों (Manufactured products) के महँगे होने के कारण अक्टूबर में थोक महँगाई दर (Wholesale prices-based inflation) में वृद्धि हुई है। केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय (Ministry of Commerce & Industry) की ओर से जारी किये गये आँकड़े के मुताबिक, अक्टूबर 2020 में थोक महँगाई दर बढ़ कर 1.48% हो गयी है, जो पिछले आठ महीनों में (फरवरी 2020 के बाद से) सबसे अधिक है। फरवरी 2020 में थोक महँगाई दर 2.26% रही थी।
अक्टूबर 2020 में दर्ज थोक महँगाई दर की तुलना तिमाही और सालाना आधार पर करें, तो सितंबर 2020 में यह 1.32% और अक्टूबर 2019 में शून्य प्रतिशत रही थी।
पिछले हफ्ते जारी आँकड़ों के मुताबिक, अक्टूबर 2020 में खुदरा महँगाई दर (Retail inflation based on consumer price index) 7.61% हो गयी थी, जो सितंबर 2020 में 7.27% रही थी। (शेयर मंथन, 16 नवंबर 2020)

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : नवंबर 2020 अंक डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"