कोर सेक्टर (Core Sector) ने लगातार चौथे महीने दर्ज की नकारात्मक वृद्धि दर

केन्द्र सरकार की ओर से जारी किये गये ताजा आँकड़ों के मुताबिक नवंबर 2019 में देश के आठ मुख्य उद्योग (Core Sector) 1.5% की दर से सिकुड़ गये।

नवंबर लगातार चौथा ऐसा महीना है जब कोर सेक्टर ने नकारात्मक वृद्धि दर दर्ज की है। अगस्त 2019 से ही कोर सेक्टर का प्रदर्शन लगातार नकारात्मक रहा है। गौरतलब है कि इन आठ मुख्य उद्योगों में कोयला (Coal), कच्चा तेल (Crude Oil), प्राकृतिक गैस (Natural Gas), रिफाइनरी उत्पाद (Refinery Products), उर्वरक (Fertilizers), इस्पात (Steel), सीमेंट (Cement) और बिजली (Electricity) शामिल हैं।
साल-दर-साल के आधार पर देखें तो नवंबर 2018 में इनमें 3.3% की दर से वृद्धि दर्ज की गयी थी। महीने-दर-महीने के आधार पर देखें तो अक्टूबर 2019 में ये आठ उद्योग 5.8% की दर से सिकुड़ गये थे।
नवंबर 2019 में प्राकृतिक गैस उत्पादन में 6.4%, कच्चा तेल उत्पादन में 6.0%, विद्युत उत्पादन में 5.7%, इस्पात उत्पादन में 3.3% और कोयला उत्पादन में 2.5% की गिरावट दर्ज की गयी।
हालाँकि नवंबर 2019 में उर्वरकों के उत्पादन में 13.6% की जोरदार बढ़ोतरी दर्ज की गयी है। इस दौरान सीमेंट उत्पादन में 4.1% की वृद्धि हुई। रिफाइनरी प्रॉडक्ट्स के उत्पादन, जो कोर सेक्टर इंडेक्स का करीब 30% हिस्सा होता है, में इस दौरान 3.1% की बढ़ोतरी दर्ज की गयी। (शेयर मंथन, 31 दिसंबर 2019)

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : अप्रैल 2019 अंक डाउनलोड करें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"