कच्चे तेल की कीमतों में सीमित गिरावट की संभावना - एसएमसी साप्ताहिक रिपोर्ट

ओपेक और उसके सहयोगियों द्वारा 2021 में तेल की माँग में बढ़ोतरी के पूर्वानुमान को कम करने के बाद कच्चे तेल की कीमतें फिसल गयी, लेकिन अमेरिकी कच्चे तेल के भंडार में कमी से कीमतों में गिरावट सीमित रही।

मुख्य ध्यान ओपेक पर केंद्रित है कि वे रूस को कितनी राहत आवास देने जा रहे हैं और सउदी अरब के कंधे पर कितना बोझ दिया जा रहा हैं। ओपेक प्लस वर्तमान में कीमतों का समर्थन करने और अधिक आपूर्ति को कम करने के लिए उत्पादन पर केवल 7 मिलियन बैरल प्रति दिन अंकुश लगा रहा है। सऊदी अरब इस कटौती के अतिरिक्त 1 मिलियन बैरल प्रति दिन की कटौती भी कर रहा है। ओपेक तेल उत्पादन मार्च में बढ़ गया क्योंकि ओपेक के सदस्यों द्वारा सहयोगी दलों के साथ एक समझौते के तहत तेल उत्पादन में कटौती की भरपायी ईरान से उच्च आपूर्ति से हुई है। ऊर्जा सूचना प्रशासन की मासिक रिपोर्ट के अनुसार, जनवरी में अमेरिकी कच्चे तेल का उत्पादन दिसम्बर के 11.101 मिलियन बैरल प्रति दिन से कम होकर 11.08 मिलियन बैरल प्रतिदिन रह गया। इस सप्ताह कच्चे तेल की कीमतों में भारी अस्थिरता रह सकती है और कीमतें नरमी के रुझान के साथ 4,180-4,660 रुपये के दायरे में कारोबार कर सकती है, जहाँ बाधा के पास बेचना रणनीति होगी।

नेचुरल गैस की कीमतें सहारा स्तर से उछाल दर्ज की हैं लेकिन 198 रुपये के अड़चन स्तर से ऊपर बने रहने में कामयाब नही हो पायी हैं। मौसम आधारित माँग कमजोर होने के कारण बढ़त कम हो रही है। निचले 48 में नेचुरल गैस का उत्पादन महीने में थोड़ा बढ़कर 1,02,847 मिलियन क्यूबिक फीट प्रति दिन हो गया, जो पिछले महीने में 1,02,714 मिलियन क्यूबिक फीट प्रति दिन हुआ था। शीर्ष उत्पादक राज्यों, पेंसिल्वेनिया और टेक्सास में उत्पादन बढ़ा। अगले दो हफ्तों में मौसम के सामान्य से अधिक गर्म रहने की उम्मीद है, जिससे हीटिंग के लिए माँग कम होने की संभावना है। इस सप्ताह में, उम्मीद है कि नेचुरल गैस की कीमतें नरमी के रुझान के साथ कारोबार कर सकती हैं, जहाँ कीमतों को 180 रुपये के पास सहारा और 198 रुपये के पास बाधा देखा जा सकता है। (शेयर मंथन, 05 अप्रैल 2021)

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"