राइजिंग में 100 फीसदी हिस्सा खरीदेगी विप्रो

आईटी सेक्टर की दिग्गज कंपनी विप्रो राइजिंग इंटरमीडिएट होल्डिंग्स का अधिग्रहण करेगी। कंपनी 100 फीसदी हिस्से के लिए 4,135 करोड़ रुपए का निवेश करेगी। यह सौदा पूरी तरह नकदी में होगा। कंपनी का इस अधिग्रहण के जरिए एसएपी (SAP) कंसल्टिंग क्षमता को बढ़ाना है।

विप्रो की ओर से किए जा रहे अधिग्रहण में अमेरिकी कंपनी राइजिंग (Rizing) सबसे नवीनतम अधिग्रहण में से एक है। कंपनी अपने महत्वाकांक्षी लक्ष्य को हासिल करने के लिए अधिग्रहण कर रही है। विप्रो की ओर से एक्सचेंज को दी गई जानकारी के मुताबिक कंपनी ने यह अधिग्रहण राइजिंग के पास मौजूद कई खासियत को देखकर किया है। इसमें
इंडस्ट्री के विशेषज्ञ, एंटरप्राइज एसेट प्रबंधन में एसएपी (SAP) कंसल्टिंग क्षमता,कंज्यूमर इंडस्ट्रीज के अलावा मानव अनुभव प्रबंधन शामिल है। कंपनी के मुताबिक इस सौदे के लिए कंपीटिशन कानून के तहत अमेरिका, जर्मनी और कनाडा के एंटी ट्रस्ट आयोग से मंजूरी लेनी होगी। कंपनी को उम्मीद है कि सौदा 30 जून 2022 तक पूरा हो जाएगा। कंपनी का कहना है कि राइजिंग से मिले अतिरिक्त कंसल्टिंग क्षमता और मजबूत ग्राहक संबंधों से मौजूदा ऑफर को बल मिलेगा और साथ ही बाजार में सबसे अलग एसएपी (SAP) सर्विस देने वाली कंपनी भी बन पाएगी।
विप्रो के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक थिएरी डेलपोर्टे (Thierry Delaporte) के मुताबिक एक साथ मिलकर हम ऊंची ग्रोथ वाले इंडस्ट्री सेक्टर में अपनी मौजूदगी और बेहतर कर पाने में सक्षम होंगे। अधिग्रहण के बाद राइजिंग, विप्रो की एक कंपनी की तरह माइक मैएलो (Mike Maiolo) के नेतृत्व में काम करेगी। आपको बता दें कि राइजिंग का मुख्यालय अमेरिका के कनेक्टिकट राज्य के स्टैंफोर्ड शहर में है। कंपनी के पास फिलहाल 1300 कर्मचारी काम कर रहे हैं। कंपनी का कारोबार 16 देशों में फैला हुआ है जिसमें उत्तरी अमेरिका, यूरोप, एशिया और ऑस्ट्रेलिया शामिल है। इससे पहले राइजिंग पर मालिकाना हक इक्विटी फर्म वन इक्विटी पार्टनर्स के पास था। (शेयर मंथन 26 अप्रैल 2022)

Add comment

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"