सर्राफा बाजार में नरमी का रुझान - एसएमसी मासिक रिपोर्ट

सितंबर महीने में, सोने ने ज्यादातर नरमी के रुझान के साथ कारोबार किया, क्योंकि फेड की प्रोत्साहन में कटौती योजनाओं पर टिके रहने से वैश्विक इक्विटी में बढ़ोतरी और डॉलर के मजबूत होने से काउंटर पर दबाव पड़ा।

एमसीएक्स में सोने की कीमतों में करीब 1.75% और कॉमेक्स में लगभग 3.5% की गिरावट हुई। एमसीएक्स पर चांदी की कीमतों में मासिक आधार पर लगभग 5.5% और कॉमेक्स में 8% से अधिक की गिरावट हुई क्योंकि बेस मेटल में कमजोरी भी चांदी की कीमतों पर भी दबाव पड़ा। चांदी की कीमतों में सितंबर में लगातार चौथे महीने गिरावट हुई है।
आउटलुक
सोने की कीमतें नरमी के रुझान के साथ एक दायरे में कारोबार कर सकती हैं। डॉलर ने वर्ष 2021 की अंतिम तिमाही की शुरुआत मजबूती के साथ की, जिससे अन्य मुद्राओं में धारकों के लिए सोना खरीदने की लागत बढ़ गयी। कुछ निवेशकों द्वारा आर्थिक अनिश्चितता और बढ़ती मुद्रास्फीति के मुकाबले हेज के रूप में नयी खरीदारी के कारण सोने की कीमतों को मदद मिल रही है। विशेष रूप से ऊर्जा लागत में वृद्धि को देखते हुये मुद्रास्फीति के दबावों के कारण सोने की गिरावट सुरक्षित रही। लेकिन फेड द्वारा प्रोत्साहनों में कटौती को लेकर संभावनायें बढ़ी है जिसे व्यापक रूप से नवंबर में शुरू होने की उम्मीद है, और ट्रेजरी की यील्ड बढ़ने की संभावना से सोने पर अधिक दबाव रहने की उम्मीद है। केंद्रीय बैंकों के कम प्रोत्साहन और ब्याज दरों में बढ़ोतरी से सरकारी बॉन्ड यील्ड को बढ़ावा मिलता है, जिससे सोने की अवसर लागत बढ़ जाती है। जब तक सोने की कीमतें दबाव में रहती है, तब तक चांदी की कीमतों में बढ़ोतरी की संभावना नही है। अक्टूबर में, बुलियन काउंटर के नरमी के रुझान के साथ सीमित दायरे में कारोबार करने की संभावना है, जहाँ हम निचले स्तर से कुछ शॉर्ट कवरिंग भी देख सकते हैं। चांदी की कीमतों के बहुत अस्थिर रहने की उम्मीद है और उच्च स्तर से भी बिकवाली की उम्मीद है।
प्रमुख खबरें

मौद्रिक नीति पर फेड का रुख: पिछले महीने नौकरियों में गिरावट के बावजूद फेड अगले महीने अर्थव्यवस्था के लिए अपने समर्थन को कम करना शुरू कर सकता है क्योंकि अमेरिका में कोविड -19 के नवीनतम मामलों में कमी आयी है। अमेरिकी क्लीवलैंड फेड बैंक के अध्यक्ष लोरेटा मेस्टर ने कहा कि ब्याज दरें बढ़ाने के लिए फेड की शर्तों को 2022 के अंत तक पूरा किया जा सकता है, और उम्मीद है कि मुद्रास्फीति अगले साल केंद्रीय बैंक के लक्ष्य पर वापस आ जायेगी।
बढ़ती मुद्रास्फीति एक प्रमुख चिंता का विषय हैः वैश्विक स्तर पर प्रोत्साहन खर्च के कारण इस वर्ष मुद्रास्फीति में बढ़ोतरी की आशंका बढ़ गयी है। यूरोप क्षेत्र की मुद्रास्फीति पिछले महीने 13 साल के उच्चतम स्तर पर पहुँच गयी और संयुक्त राज्य अमेरिका में भी कीमतों में तेजी आयी है। विशेष रूप से ऊर्जा लागत में वृद्धि को देखते हुये मुद्रास्फीति के दबावों के कारण सोने की गिरावट सीमित रह सकती है।
वैश्विक स्तर पर सोने के ईटीएफ होल्डिंग में गिरावटः ईटीएफ होल्डिंग सोने की कीमतों को सीधे प्रभावित नहीं करती है, लेकिन यह निश्चित रूप से बाजार में समग्र भावना को प्रभावित करती है। वैश्विक स्तर पर सोने के ईटीएफ की होल्डिंग सितम्बर महीने के दौरान गिरकर 3,592 टन या 201 बिलियन डॉलर हो गयी, जो अप्रैल के बाद से सबसे कम स्तर है। विश्व स्तर पर सोने के ईटीएफ की होल्डिंग में सितंबर के दौरान 15.2 टन या 830 मिलियन डॉलर की गिरावट हुई है क्योंकि बढ़ती बॉन्ड यील्ड, मजबूत डॉलर और कोमेक्स में मनी मैनजरों के कुल लांग पोजिशन में कमी के कारण कीमतों में गिरावट हुई है। इस वर्ष में अब तक वैश्विक स्तर पर सोने की ईटीएफ में 8.3 बिलियन डॉलर (-156 टन) की गिरावट हुई है।
चीन और भारत में सोने की माँगः भारत में भौतिक सोने की दरें अक्टूबर के पहले सप्ताह में दो महीने में पहली बार छूट पर आ गयी क्योंकि स्थानीय कीमतों में वृद्धि के कारण माँग कम हो गयी जबकि चीन में लंबे अवकाश के बाद सोने की खरीदारी बढ़ने की उम्मीद है। भारत में डीलरों ने आधिकारिक घरेलू कीमतों पर 2 डॉलर प्रति औसतन तक की छूट की पेशकश की - जिसमें 10.75 प्रतिशत आयात और 3 प्रतिशत बिक्री शुल्क शामिल हैं - जो पिछले सप्ताह के 4 डॉलर के प्रीमियम से कम है। इस बीच, शीर्ष उपभोक्ता चीन में माँग में एक लंबी छुट्टी के बाद माँग में वृद्धि की उम्मीद है क्योंकि कीमतों में नरमी हुई है। वैश्विक स्तर पर बेंचमार्क कीमतों पर लगभग 8-9 डॉलर प्रति औसतन का प्रीमियम है जो पिछले सप्ताह के 12 डॉलर के मुकाबले कम है। हांगकांग और जापान में माँग कमजोर रही। अक्टूबर 2021 में, सोने की कीमतें 46,000-48,500 रुपये और चांदी की कीमतें 58,000-64,000 रुपये के दायरे में कारोबार कर सकती है। जबकि कोमेक्स में सोने की कीमतें 1,720-1,800 डॉलर और चांदी की कीमतें 21.50-24.00 डॉलर के दायरे में कारोबार कर सकती है।
एनॉलसिसः सोना प्रति चांदी का अनुपात, जो सोने को खरीदने के लिए आवश्यक चांदी के औंस की संख्या को मापता है, अगस्त महीने में 75.0 से बढ़कर 79.7 हो गया है। सितम्बर में सोने और चांदी का अनुपात 75-83 के दायरे में रह सकता है। (शेयर मंथन, 12 अक्टूबर 2021)

Add comment

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"