एसजेवीएन से टाटा पावर को मिला 5500 करोड़ रुपए का ऑर्डर

टाटा पावर ने सतलज जल विद्युत निगम लिमिटेड (SJVN) से 5500 करोड़ रुपए का ऑर्डर हासिल किया है। टाटा पावर ने भारत के सबसे बड़े सोलर इंजीनियरिंग, प्रोक्योरमेंट और कंस्ट्रक्शन (EPC) ऑर्डर हासिल किया है। इस ऑर्डर के तहत टाटा पावर को 1 गीगा वाट प्रोजेक्ट के लिए 5500 करोड़ रुपए का ऑर्डर मिला है। कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि इस प्रोजेक्ट को इस तरीके से डिजाइन किया गया है जिसमें सेल और मॉड्यूल्स भारत में बने हुए इस्तेमाल होंगे।

टाटा पावर का गुजरात में 120 मेगावाट का सोलर प्रोजेक्ट शुरू

टाटा पावर रिन्युएबल ने गुजरात के मासेनका में 120 मेगावाट का सोलर प्रोजेक्ट शुरू किया। आपको बता दें कि टाटा पावर रिन्युएबल एनर्जी लिमिटेड यानी टीपीआरईएल (TPREL) टाटा पावर की 100 फीसदी सब्सिडियरी है। इस प्रोजेक्ट से सालाना गुजरात सरकार के लिए 305247 मेगावाट आवर का उत्पादन होगा।

एरिस लाइफसाइंस ने 650 करोड़ रुपए में किया ओकनेट हेल्थकेयर का अधिग्रहण

 एरिस लाइफसाइंस ने ओकनेट हेल्थकेयर का अधिग्रहण 650 करोड़ रुपए में किया है। आपको बता दें कि ओकनेट हेल्थकेयर मुंबई की एक कंपनी है जिसका फोकस त्वचा से जुड़ी घरेलू फॉर्मूलेशंस पर है।

कोहिनूर सहित कई ब्रांडों का अदाणी विल्मर ने किया अधिग्रहण

अदाणी विल्मर ने कई ब्रांडों के अधिग्रहण का ऐलान किया है। इस अधिग्रहण में मशहूर ब्रांड कोहिनूर ब्रांड भी शामिल है। कंपनी ने यह अधिग्रहण मैककॉर्मिक स्विटजरलैंड जीएमबीएच से किया है। कंपनी ने यह अधिग्रहण अपने फूड कारोबार को मजबूत करने के मकसद किया है। हालाँकि कंपनी ने सौदे से जुड़े ज्यादा विवरणों को साझा नहीं किया है।

अलग-अलग क्षेत्रों में काम करने वाली आईटीसी (ITC) ने इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT) के साथ करार किया है

कंपनी ने यह करार चिन्हित स्टेम (STEM) के क्षेत्र में मदद करने के लिए किया है।यहां पर स्टेम यानि साइंस, टेक्नोलॉजी, इंजीनियरिंग और गणित के क्षेत्र में सहयोग के लिए किया है। आईटीसी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि यह समझौता पत्र सतत विकास लक्ष्य को हासिल करने की गति को बढ़ाने के मकसद से किया गया है।

सब्सिडियरी को यूएसएफडीए (USFDA) से कैंसर की जेनरिक दवा को मंजूरी

 अरविंदो फार्मा को अमेरिकी ड्रग रेगुलेटर यानी यूएसएफडीए (USFDA) से कैंसर की जेनरिक दवा को मंजूरी मिली है। कंपनी को यूएसएफडीए से यह मंजूरी बोर्टेजोमिब (Bortezomib) दवा के लिए मिली है। कंपनी को दवा के लिए अंतिम मंजूरी उसकी सब्सिडियरी यूगिया फार्मा स्पेश्यालिटिज को मिली है। कंपनी को यह मंजूरी दवा के उत्पादन और बिक्री के लिए मिली है। बोर्टेजोमिब दवा का जेनरिक संस्करण कुछ खास तरह के कैंसर के इलाज में इंजेक्शन के लिए किया जाता है।

यूएसएफडीए (USFDA) से कैंसर की जेनरिक दवा को मंजूरी

जायडस लाइफसाइंस को अमेरिकी ड्रग रेगुलेटर यानी यूएसएफडीए (USFDA) से कैंसर की जेनरिक दवा को अंतिम मंजूरी मिली है। कंपनी को यूएसएफडीए से यह मंजूरी बोर्टेजोमिब (Bortezomib) दवा के लिए मिली है।

मई महीने के पहले कारोबारी दिन बाजार निचले स्तर से रिकवरी के साथ बंद

वैश्विक बाजारों से कमजोर संकेतों के कारण बाजार की कमजोर शुरुआत हुई। हालाकि कारोबारी सत्र के आखिरी घंटों में बाजार में निचले स्तर से शानदार रिकवरी देखी गई।

कारोबार विस्तार पर 100 करोड़ रुपए का निवेश करेगी सालासर टेक्नो

सालासर टेक्नो इंजीनियरिंग कारोबार विस्तार पर 100 करोड़ रुपए का निवेश करेगी। कंपनी के संयुक्त प्रबंध निदेशक शशांक अग्रवाल ने कहा कि कंपनी भिलाई में फैब्रिकेशन इकाई लगाने में 50 करोड़ का निवेश करेगी। वहीं 50 करोड़ रुपए की रकम गैल्वेनाइजिंग इकाई लगाने पर खर्च करेगी।

वैरॉक इंजीनियरिंग अमेरिका और यूरोप में 4-व्हीलर्स लाइटिंग कारोबार बेचेगी

वैरॉक इंजीनियरिंग ने अपने 4-व्हीलर्स यानी चार पहिए लाइटिंग सिस्टम कारोबार बेचने का फैसला किया है। कंपनी अपने अमेरिका और यूरोप के कारोबार को बेचेगी। कंपनी अपना कारोबार फ्रांस की कंपनी Compagnie Plastic Omnium SE को 60 करोड़ यूरो यानी 4,830 करोड़ में बेचेगी। कंपनी की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि विनिवेश का यह फैसला रणनीति के तहत किया गया है ताकि कंपनी के संसाधनों का बेहतर इस्तेमाल किया जा सके। कंपनी की योजना के मुताबिक चीन, भारत और वैश्विक स्तर पर दोपहिए वाहनों के लिए बड़े वैल्यू और ऊंची ग्रोथ वाले प्राइमरी मार्केट पर फोकस बढ़ाना है।

भेल का जीई पावर कंवर्जन के साथ समझौता पत्र पर हस्ताक्षर

 सरकारी कंपनी भेल यानी भारत हैवी इलेक्ट्रिक लिमिटेड ने जीई पावर कंवर्जन के साथ समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किया है। यह करार भारतीय नौसेना के लिए इंटीग्रेटेड इलेक्ट्रिक प्रोपल्सन सिस्टम (IEPS) विकसित करने के लिए किया गया है।

कैपेसाइट इंफ्रा ने 826.49 करोड़ रुपए का ऑर्डर जीता

कैपेसाइट इंफ्रा को कुल 826.49 करोड़ रुपए के ऑर्डर मिले हैं। इसमें जीएसटी शामिल नहीं है। कंपनी को यह ऑर्डर सरकारी और निजी कंपनी की ओर से मिला है। कंपनी को पहला ऑर्डर म्यूनिसिपल कॉरपोरेशन ऑफ ग्रेटर मुंबई से मिला है। इसके तहत कंपनी को 599.04 करोड़ रुपए का ऑर्डर मिला है।

न्यूट्रिएंट आधारित सब्सिडी को कैबिनेट मंजूरी, जम्मू-कश्मीर में 540 मेगा वाट हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट को भी मंजूरी

 कैबिनेट ने खरीफ फसलों के लिए न्यूट्रिएंट आधारित सब्सिडी को मंजूरी दे दी है। सरकार ने यह सब्सिडी फॉस्फेटिक और पोटाश फर्टिलाइजर (P&K) के लिए मंजूर की है। कैबिनेट ने खरीफ सीजन 2022 के लिए 60,939 करोड़ रुपए की सब्सिडी को मंजूरी दी है। यह सब्सिडी पिछले साल के मुकाबले प्रति बोरी 50% से ज्यादा है। यह सब्सिडी 1 अप्रैल से 30 सितंबर के लिए मान्य होगा। इस सब्सिडी में खाद के घरेलू उत्पादन के अलावा डीएपी (DAP) के इंपोर्ट में होने वाला खर्च भी शामिल है।

ओएनजीसी का नॉर्वे की एनर्जी कंपनी के साथ करार

सरकारी कंपनी ओएनजीसी (ONGC) ने नॉर्वे की एनर्जी की बड़ी कंपनी इक्विनॉर एएसए (ASA) के साथ समझौता पत्र पर हस्ताक्षर किया है। कंपनी ने यह करार ऑयल एंड गैस के क्षेत्र में एक्सप्लोरेशन के साथ-साथ क्लीन एनर्जी प्रोजेक्ट्स के लिए किया है।

हाइपर लोकल सेगमेंट के लिए टीवीएस मोटर्स का रैपिडो के साथ करार

 टीवीएस मोटर्स ने रैपिडो (Rapido) के साथ करार किया है। कंपनी ने यह करार मोबिलिटी और हाइपर लोकल सेगमेंट के लिए किया है। कंपनी ने यह रणनीतिक करार व्यावसायिक मोबिलिटी इकोसिस्टम और आपसी फायदे के लिए किया है। आपको बता दें कि रैपिडो एक ऑन डिमांड डिलिवरी और मोबिलिटी प्लैटफॉर्म है।

बायोकॉन बायोलॉजिक्स की सब्सिडियरी कंपनी को इंसुलिन आपूर्ति के लिए मिला कॉन्ट्रैक्ट

बायोकॉन बायोलॉजिक्स की सब्सिडियरी कंपनी को मलेशिया सरकार से इंसुलिन की आपूर्ति के लिए कॉन्ट्रैक्ट मिला है। कंपनी को इंसुलिन की आपूर्ति के लिए 9 करोड़ डॉलर यानी करीब 688 करोड़ रुपए का कॉन्ट्रैक्ट मिला है। कंपनी को यह कॉन्ट्रैक्ट 3 साल के लिए मिला है। कंपनी को रिकॉम्बिनेंट ह्यूमैन इंसुलिन ब्रांड इंसुजेन की आपूर्ति करना है।

 

कंपनियों की सुर्खियाँ

निवेश मंथन : डाउनलोड करें

निवेश मंथन : ग्राहक बनें

शेयर मंथन पर तलाश करें।

Subscribe to Share Manthan

It's so easy to subscribe our daily FREE Hindi e-Magazine on stock market "Share Manthan"